--> -->

विश्वव्यापी कोरोना वायरस महामारी

विश्वव्यापी कोरोना वायरस महामारी के दौरान जहां संपूर्ण भारत में लॉक डाउन चल रहा है उसी के चलते गरीब परिवारों की मदद के लिए विश्व कल्याण मिशन ट्रस्ट हरिद्वार के अध्यक्ष परम पूज्य संत श्री चिन्मयानंद बापू जी के द्वारा उत्तराखंड सरकार मैं शहरी विकास मंत्री आदरणीय श्री मदन कौशिक जी के माध्यम से गरीब परिवारों के सहयोग के लिए ₹400000 की राशि समर्पित की गई एवं पूज्य बापूजी ने विश्व कल्याण मिशन ट्रस्ट के द्वारा 500 गरीब परिवारों के 21 दिन के भोजन संबंधी पूरी सामग्री हेतु ₹500000 का सहयोग करने का संकल्प लिया है साथ ही पूज्य बापूजी ने संपूर्ण भारत में जो लोग इस महामारी से ग्रसित है उनके उपचार हेतु देश के प्रधानमंत्री आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा जो सबकी मदद के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष का अकाउंट खोला गया उसमें भी पीड़ितों की मदद के लिए ₹125000 का सहयोग प्रदान करने का संकल्प लिया है इस प्रकार विश्व कल्याण मिशन ट्रस्ट के द्वारा 1025000 रुपए का सहयोग कोरोना वायरस महामारी के दौरान संपूर्ण भारत में अलग-अलग सेवा के क्षेत्रों में समर्पित किया जाएगा

Donate Now International Donate Now India

सुविचार (Quote)

About Bapu Ji

स्चिन्मयानंद बापू जी (Shri Chinmayanand Bapu Ji) का जन्म 4 दिसंबर 1980 को मिर्जापुर जिला उत्तर प्रदेश के गैपुरा गांव में श्री हरी शंकर पांडेय और श्रीमती रेखा पांडेय के घर में हुआ है। उनके माता-पिता ब्राह्मण है।। उनकी शिक्षा अयोध्या के वेद मंदिर आश्रम में पूरी हुई , वह संस्कृत पाठशाला में भी बहुत उत्तम थे। उनके गुरु देव महामंडलेश्वर स्वामी राम कुमार दास जी है।, जिनकी अनुकंपा से उन्होंने संस्कृत में सभी ग्रंथो, महाकाव्यों और वैदिक दर्शन का ज्ञान प्राप्त किया। चिन्मयानंद बापू जी (Shri Chinmayanand Bapu Ji) ने 14 वर्ष की आयु में प्रथम बार श्री राम कथा का वाचन किया(बूंदी राजस्थान में) जोकि अब कथा की धारा विश्वभर में व्याप्त होते हुए लगभग 700 से अधिक हो चुकी है।[3] जिसमे की लगभग भारत के सभी प्रान्त और विश्व के लगभग दस देश शामिल है। जंहाकि पूज्ये बापू जी की कथाओ का आयोजन हो चूका है।पूज्ये बापू जी की मधुर वाणी से करोडो मनुष्यों के जीवन में प्रकाश का उदगम हुवा है।

READ MORE > Donate Now International Donate Now India

Gallery

About Trust

Set up 2009, this trust provides education for underprivileged children. Initially the trust provided books and clothes to the children, now with the number of children growing; we have tied up with local schools to provide the education. Our institution pays the fees for the books and clothes and the schools take care of their education. In 2014, Vishva Kalyan Mission Trust funded the education of 350 students in Haridwar. We are looking at taking this number up to 700 students in the coming year.दगम हुवा है।

READ MORE > Donate Now International Donate Now India

Katha Videos

 
-->